दीपावली पर कविता | दीवाली पर कविता – Deepawali Par Kavita in Hindi 2018

दीपावली पर कविता | दीवाली पर कविता – Deepawali Par Kavita in Hindi 2018

November 3, 2018 3 By Rupesh Goyal

दीपावली पर कविता 2018:  इस दिन प्रभु राम (भगवान राम), माता सीता और भ्राता लक्ष्मण जी के साथ रावण का वध करके अयोध्या वापिस लोटे थे. उनके अयोध्या वापिस लोटने की ख़ुशी में अयोध्या वासियों ने उनका दीयों से स्वागत किया था तभी से दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है. आज इस लेख में मै आप सभी के साथ दीपावली पर कविता, दीवाली पर कविता, Deepawali Par Kavita in Hindi शेयर करूंगा| परंतु अगर आप इसके विपिरिक्त दिवाली शायरी, दिवाली कोट्स अथवा दिवाली विशेस डाउनलोड करना चाहते हो तो आप नीचे दिए गये लिंक पर क्लिक करे.

Deepawali Par Kavita in Hindi For Whatsapp

दीपावली पर कविता | दीवाली पर कविता - Deepawali Par Kavita in Hindiआई दिवाली ख़ुशी मनायेंगे,
मिलजुल यह त्यौहार मनायेंगे..
चोदह साल काटा वनवास,
राम जी आये भक्तों के पास,
खुशियों के दीप जलायेंगे,
आई दिवाली ख़ुशी मनायेंगे…

दिल से सारे वैर भूला कर,
इक-दूजे को गले लगाकर,
सब शिकवे दूर भगायेंगे,
आई दिवाली ख़ुशी मनायेंगे…

चल रहे है बम्ब-पटाखे,
शोर मचाते धूम-धड़ाके,
संग सब के ख़ुशी मनायेंगे.
आई दिवाली ख़ुशी मनायेंगे…

दीपावली पर कविता | दीवाली पर कविता

दीपावली पर कविता | दीवाली पर कविता - Deepawali Par Kavita in Hindi

मंगलमय हो आपको दीपों का त्यौहार,
जीवन में आती रहे पल पल नयी बहार,
ईश्वर से हम कर रहे हर पल यही पुकार,
लक्ष्मी की कृपा रहे भरा रहे घर द्वार…

मुझको जो भी मिलना हो, वह तुमको ही मले दोलत,
तमन्ना मेरे दिल की है, सदा मिलती रहे शोहरत,
सदा मिलती रहे शोहरत, रोशन नाम तेरा हो
कामो का ना तो शाया हो निशा में न अँधेरा हो…

दिवाली आज आयी है, जलाओ प्रेम के दीपक
जलाओ प्रेम के दीपक, अँधेरा दूर करना है
दिलों में जो अँधेरा है, उसे हम दूर कर देंगे
मिटा कर के अंधेरों को, दिलो में प्रेम भर देंगे…

मनाएं हम तरीकें से तो रोशन ये चमन होगा
सारी दुनियां से प्यारा और न्यारा ये वतन होगा
धरा अपनी, गगन अपना, जो बासी वो भी अपने हैं
हकीकत में वे बदलेंगे, दिलों में जो भी सपने हैं…

Deepawali Par Kavita in Hindi

दीपावली पर कविता | दीवाली पर कविता - Deepawali Par Kavita in Hindi

आओ फिर से दिया जलाएँ
भरी दुपहरी में अँधियारा
सूरज परछाई से हारा
अंतरतम का नेह निचोड़ें-
बुझी हुई बाती सुलगाएँ।
आओ फिर से दिया जलाएँ

हम पड़ाव को समझे मंज़िल
लक्ष्य हुआ आँखों से ओझल
वर्त्तमान के मोहजाल में-
आने वाला कल न भुलाएँ।
आओ फिर से दिया जलाएँ।

आहुति बाकी यज्ञ अधूरा
अपनों के विघ्नों ने घेरा
अंतिम जय का वज़्र बनाने-
नव दधीचि हड्डियाँ गलाएँ।
आओ फिर से दिया जलाएँ

Deepawali Par Kavita in Hindi 2018

दीपावली पर कविता | दीवाली पर कविता - Deepawali Par Kavita in Hindi

दीप शिखा की लौ कहती है, व्यथा कथा हर घर रहती है,
कभी छिपी तो कभी मुखर बन, अश्रु हास बन बन बहती है
हाँ व्यथा सखी, हर घर रहती है…
बिछुडे स्वजन की याद कभी, निर्धन की लालसा ज्योँ थकी थकी,
हारी ममता की आँखोँ मेँ नमी, बन कर, बह कर, चुप सी रहती है,
हाँ व्यथा सखी, हर घर रहती है!
नत मस्तक, मैँ दिवला, बार नमूँ
आरती, माँ, महालक्ष्मी मैँ तेरी करूँ,
आओ घर घर माँ, यही आज कहूँ,
दुखियोँ को सुख दो, यह बिनती करूँ,
माँ, देख, दिया, अब, प्रज्वलित कर दूँ!
दीपावली आई फिर आँगन, बन्दनवार, रँगोली रची सुहावन !
किलकारी से गूँजा रे प्राँगन, मिष्ठान्न अन्न धृत मेवा मन भावन!
देख सखी, यहाँ फूलझडी मुस्कावन!
जीवन बीता जाता ऋउतुओँ के सँग सँग,
हो सबको, दीपावली का अभिनँदन!
नव -वर्ष की बधाईई, हो, नित नव -रस!

Deepawali Par Kavita in Hindi – दीवाली पर कविता | दीपावली पर कविता

दीपावली पर कविता | दीवाली पर कविता - Deepawali Par Kavita in Hindi

अगर आप  Deepawali Par Kavita in Hindiदीपावली की शुभकामनाएं और बधाई सन्देश, Happy Diwali Message, Shayari, SMS And Shubhkamnaye, दीपावली पर स्टेटस इन हिंदी, दीपावली पर कोट्स इन हिंदी 2018, Happy Diwali Quotes in Hindi 2018, Happy Diwali status In Hindi, Happy Diwali Quotes In Hindi 2018, Happy Diwali in Hindi 2018, Happy Diwali in Hindi For facebook and whatsapp. Happy Diwali status In Hindi for facebook and whatsapp,  Karwa Chauth Par Kavita in Hindi, दीपावली पर कविता, Happy Karwa Chauth Status in Hindi 2018,  Happy Diwali status for whatsapp, धनतेरस पर कविता हिंदी में, Happy dhanteras Special Quotesin Hindi 2018, धनतेरस पर शायरी हिंदी में 2018,  दीपावली शायरी पति पत्नी के लिए, दीपावली की फोटो, दीपावली पर शुभकामनाये 2018, दीपावली पर कविता 2018 इन हिंदी लैंग्वेज, ढूंढ रहे है तो यह से प्राप्त कर सकते है

दीपावली पर कविता “मन से मन का दीप जलाओ”

दीपावली पर कविता | दीवाली पर कविता - Deepawali Par Kavita in Hindi

मन से मन का दीप जलाओ
जगमग-जगमग दि‍वाली मनाओ

बनियो के घर बंदनवार सजती
निर्धन के घर लक्ष्मी न ठहरती
मन से मन का दीप जलाओ
घृणा-द्वेष को मिल दूर भगाओ
घर-घर जगमग दीप जलते
नफरत के तम फिर भी न छंटते
जगमग-जगमग मनती दिवाली
गरीबों की दिखती है चौखट खाली
खूब धूम धड़काके पटाखे चटखते
आकाश में जा ऊपर राकेट फूटते
काहे की कैसी मन पाए दिवाली
अंटी हो जिसकी पैसे से खाली
गरीब की कैसे मनेगी दीवाली
खाने को जब हो कवल रोटी खाली
दीप अपनी बोली खुद लगाते
गरीबी से हमेशा दूर भाग जाते
अमीरों की दहलीज सजाते
फिर कैसे मना पाए गरीब दि‍वाली
दीपक भी जा बैठे हैं बहुमंजिलों पर
वहीं झिलमिलाती हैं रोशनियां
पटाखे पहचानने लगे हैं धनवानों को
वही फूटा करती आतिशबाजियां
यदि एक निर्धन का भर दे जो पेट
सबसे अच्छी मनती उसकी दि‍वाली
हजारों दीप जगमगा जाएंगे जग में
भूखे नंगों को यदि रोटी वस्त्र मिलेंगे
दुआओं से सारे जहां को महकाएंगे
आत्मा को नव आलोक से भर देगें
फुटपाथों पर पड़े रोज ही सड़ते हैं
सजाते जिंदगी की वलियां रोज है
कौन-सा दीप हो जाए गुम न पता
दिन होने पर सोच विवश हो जाते

दीवाली पर कविता हिंदी में 2018

दीपावली पर कविता | दीवाली पर कविता - Deepawali Par Kavita in Hindi

जगमग-जगमग दीप जले आई दिवाली
घर-घर में नाच रही है खुशहाली।
दूर हुए अंधियारे, लगें उजले पहर
जगमगा उठे हैं हर गांव, हर शहर
धरती आसमान पर छाई,
खुशियों की लाली।
दीप धरे बालक-बाला मुंडेरों पर
रंग रंगोली से सजाए हैं कैसे घर
वंदनवार लगाए द्वार सजाए
लगाए झूमर मोली।
चुन्नू-मोनी फोड़ रहे हैं पटाखे
रामू-श्यामू भी कर रहे हैं धमाके,
खुशियों से भर ली, पटाखों की झोली।
भेदभाव भुलाकर, गले मिल रहे हैं
गीत खुशी के गाए, कैसे झूम रहे हैं
मन में स्नेह भाव, बोले मीठी बोली।