बाल दिवस पर कविता 2018 – Bal Diwas Kavita in Hindi | Bal Diwas Poem in Hindi

बाल दिवस पर कविता 2018 – Bal Diwas Kavita in Hindi | Bal Diwas Poem in Hindi

November 11, 2018 4 By Rupesh Goyal

बाल दिवस पर कविता 2018: बाल दिवस को पंडित जवाहरलाल नेहरु जी के जन्म दिवस 14 नवम्बर पर मनाया जाता है’। यह उत्सव पुरे भारत में धूम-धाम से मनाया जाता है। यह त्यौहार हम बच्चों के शिक्षा के अधिकार के विषय में लोगों को जागरूक करने के लिए मनाते हैं। सभी के जीवन मैं एक बहुत ही महत्वपूर्ण पल होता है ।14 नवम्बर को बाल दिवस के अनेक कार्यक्रम आरम्भ किए जाते हैं। जिसमे कविता का भी अपने आप में एक एहम भूमिका होती है वो में आप सभी भाई और बहेनो को इस पोस्ट Poem on Childrenday in Hindi, बाल दिवस पर कविता 2018, Bal Diwas Kavita in Hindi,  Bal Diwas Poem in Hindi के माध्यम से साझा कर रहा हूँ ।

बाल दिवस पर कविता 2018

बाल दिवस पर कविता 2018 – Bal Diwas Kavita in Hindi | Bal Diwas Poem in Hindi

Poem on Childrenday in Hindi

चाचा नेहरू तुमने 
प्यारे बच्चों को ईनाम दिया था।
अपने जन्म-दिवस को 
तुमने बाल-दिवस का नाम दिया था।

फूलों की मुस्कानों से महके उपवन।
बच्चों की किलकारी से गूँजे आँगन।।

एक साल में एक बार ही बाल दिवस आता है।
मास नवम्बर नेहरू जी की हमको याद दिलाता है।।

लाल-जवाहर के सीने पर सजा सुमन है।
अभिनव भारत के निर्माता तुम्हें नमन है।।

बाल दिवस पर कविता फॉर फेसबुक

बाल दिवस पर कविता 2018 – Bal Diwas Kavita in Hindi | Bal Diwas Poem in Hindi

सुन रहे हो ना तुम, 
रो रहा हूँ में…..

अपना खाली पेट भरने को, 
किसी ढाबे के अंदर, 
झूठे बर्तन धो रहा हूँ में,
सुन रहे हो ना तुम, 
रो रहा हूँ में……………….

अपने नाजुक कन्धो पर, 
ऊँची ऊँची बिल्डिंगो का, 
भारी बोझा ढो रहा हूँ में, 
सुन रहे हो ना तुम, 
रो रहा हूँ में……………….

किसी सड़क किनारे बैठा, 
आते जाते लोगो के, 
जूते पोलिश कर रहा हूँ में, 
सुन रहे हो ना तुम, 
रो रहा हूँ में……………….

किसी स्टेशन -चौराहे पर, 
अपने छोटे भाई बहिन संग, 
भीख मांग रहा हूँ में,
सुन रहे हो ना तुम, 
रो रहा हूँ में……………….

मैंने यह जन्म जिया भी नही, 
अभी कोई पाप किया भी नही, 
जाने किस के कर्मो का फल, 
भोग रहा हूँ में,
सुन रहे हो ना तुम, 
रो रहा हूँ में……………….

“नेहरु” को बस नमन करेंगे,
झूठे बालदिवस कब तक मनेगें, 
अपना बचपन खो रहा हूँ में, 
सुन रहे हो ना तुम 
रो रहा हूँ में……………….

 Bal Diwas Kavita in Hindi

बाल दिवस पर कविता 2018 – Bal Diwas Kavita in Hindi | Bal Diwas Poem in Hindi

नेहरू चाचा तुम्हें सलाम
    अमन-शांति का दे पैगाम
जग को जंग से बचाया
     हम बच्चों को भी मनाया
जन्मदिवस बच्चों के नाम
    नेहरू चाचा तुम्हें सलाम  
देश को दी हैं योजनाएं
    लोहा और इस्पात बनाए
बांध बने बिजली निकाली
     नहरों से खेतों में हरियाली
प्रगति का दिया इनाम
     नेहरू चाचा तुम्हें प्रणाम

Bal Diwas Kavita in Hindi | Bal Diwas Poem in Hindi – बाल दिवस पर कविता

बाल दिवस पर कविता 2018 – Bal Diwas Kavita in Hindi | Bal Diwas Poem in Hindi

अगर आप बाल दिवस पर कविता 2018, Bal Diwas Kavita in Hindi, Bal Diwas Poem in Hindi,बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं संदेश, Bal Diwas Wishes in Hindi, बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं संदेश, Happy Bal Diwas Quotes in Hindi 2018, Happy Bal Diwas wishes In Hindi for brother sister and siblings,Poem on Childrenday in Hindi, Bal Diwas Quotes in Hindi For facebook and whatsapp. Happy Bal Diwas wishes and status In Hindi for facebook and whatsapp, Karwa Chauth Par Kavita in Hindi, बाल दिवस पर कविता, बाल दिवस पर कविता हिंदी में, Happy बाल दिवस पर कविता 2018 Special Quotesin Hindi 2018, बाल दिवस पर शायरी हिंदी में 2018, बाल दिवस शायरी बहन भाई के लिए, बाल दिवस पर कविता 2018 इन हिंदी लैंग्वेज, ढूंढ रहे है तो यह से प्राप्त कर सकते है|

Bal Diwas Poem in Hindi

बाल दिवस पर कविता 2018 – Bal Diwas Kavita in Hindi | Bal Diwas Poem in Hindi

Poem on Childrenday in Hindi

चाचा नेहरु प्यारे थे,
      भारत माता के राजदुलारे थे!,
देश के पहले पधानमंत्री थे,
      स्वतंत्रता के सैनानी थे!
अचकन में फूल लगाते थे,
       बच्चो से प्यार जताते थे!
चाचा नेहरु प्यारे थे!
       देश विदेश यह घूमते थे,
बहुत सारी जानकारी प्राप्त करते थे,
        फिर भी अपने देश से यह प्यार करते थे!
चाचा नेहरु राजकुमारे थे!
         बच्चे इनको सदा प्यार से,
चाचा नेहरू कहते।
          चाचाजी इन बच्चों के बीच
बच्चे बनकर रहते है॥
         एक गुलाब ही सब पुष्पों में,
इनको लगता प्यारा।
        भारत मां का लाल यह,
सबसे ही था न्यारा॥
        सारे जग को पाठ पढ़ाया,
शांति और अमन का।
          भारत मां का मान बढ़ाया,
था यह ऐसा लाल चमन का॥

बाल दिवस पर कविता

बाल दिवस पर कविता 2018 – Bal Diwas Kavita in Hindi | Bal Diwas Poem in Hindi

बचपन है ऐसा खजाना
     आता है न जो दोबारा
मुश्किल है इसको भुलाना
      वो खेलना, कूदना और खाना,
मोज मस्ती में बलखाना!
       वो माँ की ममता, वो पापा का दुलार,
भुलाए ना भूले, वो सावन की फुहार!
      मुश्किल है इसको भुलाना…..
वो कागज की नाव बनाना
       बारिश में खुद को भीगना!
वो झूले झुलना और मुस्काना,
        वो पतंगों का उड़ना उड़ना!
मुश्किल है इसको भुलाना…..

Bal Diwas Poem in Hindi For Whatsapp

बाल दिवस पर कविता 2018 – Bal Diwas Kavita in Hindi | Bal Diwas Poem in Hindi

वो यारों की यारी में सब भूल जाना,

और डंडे से गिल्ली को दूर उड़ना!

वो होमवर्क से जी चुराना,

और टीचर के पूछने पर बहाने बनाना!

मुश्किल है इसको भुलाना….

वो एग्जाम में रटते लगाना,

फिर रिजल्ट के डर से घबराना!

वो दोस्तों के साथ साईकिल चलाना

वो छोटी-छोटी बातो पर रूठ जाना

मुश्किल है इसको भुलाना….

वो माँ का प्यार से मनाना

वो पापा के साथ घुमने जाना

और पिज्जा और बर्गर खाना

याद आता है अब वो जमाना,

बचपन है ऐसा खजाना,

मुश्किल है इसको भुलाना…