अग्रसेन जयंती पर कविता 2018 – Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 for Facebook and Whatsapp

अग्रसेन जयंती पर कविता 2018 – Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 for Facebook and Whatsapp

October 1, 2018 7 By Rupesh Goyal

अग्रसेन जयंती पर कविता 2018: आइए, अग्रसेन जयंती के शुभ अवसर पर हम यह प्रतिज्ञा लें कि हम अग्र है, अग्र ही रहेंगे, अग्रवालों की शान कभी कम न होने देंगे ! में लाया हु आप लोगो के लिए अग्रसेन जयंती पर कविता 2018,Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 for Facebook and Whatsapp,अग्रसेन जयंती पर कविता 2018 “उम्मीद है”,,अग्रसेन जयंती पर कविता “अठारह गोत्र”, Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018, Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018.सभी अग्रवाल भाइयों और बहनों को अग्रसेन जयंती की असीम शुभकामनाएं।

Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 for Facebook and Whatsapp “महाराज अग्रसेन जी की आरती”

अग्रसेन जयंती पर कविता 2018 – Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 for Facebook and Whatsapp

महाराज अग्रसेन जी की आरती

जय श्री अग्र हरे, स्वामी जय श्री अग्र हरे..! कोटि कोटि नत मस्तक, सादर नमन करें ..!! जय श्री!

आश्विन शुक्ल एकं, नृप वल्लभ जय! अग्र वंश संस्थापक, नागवंश ब्याहे..!! जय श्री!

केसरिया थ्वज फहरे, छात्र चवंर धारे! झांझ, नफीरी नौबत बाजत तब द्वारे ..!! जय श्री!

अग्रोहा राजधानी, इंद्र शरण आये! गोत्र अट्ठारह अनुपम, चारण गुंड गाये..!! जय श्री!

सत्य, अहिंसा पालक, न्याय, नीति, समता! ईंट, रूपए की रीति, प्रकट करे ममता..!! जय श्री!

ब्रहम्मा, विष्णु, शंकर, वर सिंहनी दीन्हा! कुल देवी महामाया, वैश्य करम कीन्हा..!! जय श्री!

अग्रसेन जी की आरती, जो कोई नर गाये! कहत त्रिलोक विनय से सुख संम्पति पाए..!! जय श्री!

 

Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 for Facebook and Whatsapp

अग्रसेन जयंती पर कविता 2018 – Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 for Facebook and Whatsapp

अग्रसेन जी की राह पर हम सबको अब चलना है,
नहीं झुकेगा सिर अब, सिर उठाकर जीना है।
उंच-नीच का भेद मिटाए, हम सब समान है,
निर्धन हो या धनी, धरती पर सिर्फ इंसान है।
प्यार अमन के दीप हमें, पग-पग पर जलाना है,
जागो, उठो साथ चलो, जग को यहीं बताना है।

Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 “AGRAWAL”

अगर आप अग्रसेन जयंती पर शुभकामनाये 2018, अग्रसेन जयंती पर कविता 2018, Maharaja Agarsen Jayanti par kavita in Hindi, Maharaja Agarsen Jayanti par kavita in Hindi For Whatsapp or Facebook 2018, महाराज अग्रसेन जयंती स्पीच 2018, अग्रसेन जयंती पर शुभकामनाये, गाँधी जयंती पर नारे 2018, गाँधी जयंती पर नारे, गाँधी जयंती पर नारे इन हिंदी लैंग्वेज,स्वच्छता दिवस पर निबंध इन हिंदी, Swwachta Diwas Par Essay in Hindi, महात्मा गांधी पर निबंध 2018, स्वच्छता दिवस पर निबंध इन हिंदी लैंग्वेज, स्वच्छता दिवस पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए ढूंढ रहे है तो यह से प्राप्त कर सकते है|

 

अग्रसेन जयंती पर कविता 2018 – Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 for Facebook and Whatsapp

बंगले . गाडी तो ” agrawal ” की घर घर
की कहानी हैं…….

तभी तो दुनिया ” agrawal “
की दिवानी हैं.

अरे मिट गये ” agrawal ” को मिटाने वाले क्योकि आग मे
तपती ” agrawal ” की जवानी है

ये आवाज नही शेर कि दहाड़ है….. हम खडे हो जाये
तो पहाड़
है….

हम इतिहास के वो सुनहरे पन्ने है…..
जो भगवान राम ने ही चुने है….दिलदार औऱ दमदार
है” ” agrawal “

रण भुमि मे तेज तलवार है”” agrawal “
पता नही कितनो की जान है agrawal ” agrawal

सच्चे प्यार पर कुरबान है
“” ” agrawal

यारी करे तो यारो के यार है
“” ” ” agrawal “
औऱ दुशमन के लिये तुफान है
“” ” agrawal ” “”

तभी तो दुनिया कहती है बाप रे खतरनाक है
“” ” agrawal “”””

शेरो के पुत्र शेर ही ज़ाने जाते हैं, लाखो के
बीच. ” agrawal “
पहचाने जाते हैं।।

मौत देख कर किसी क़े पिछे छुपते नही ,
हम” agrawal ” ,मरने से क़भी डरते नही। हम
अपने आप पर ग़र्व
क़रते हैं, दुशमनों को काटने का जीगरा हम रखते हैं ,

कोई ना दे हमें खुश रहने की दुआ,तो भी कोई
बात नहीं…
वैसे भी हम खुशियाँ रखते नहीं,
बाँट दिया करते हैं।

अग्रसेन जयंती पर कविता 2018 “उम्मीद है”

अग्रसेन जयंती पर कविता 2018 – Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 for Facebook and Whatsapp

“नयी कविता “उम्मीद है “अग्रसेन जयंती” तक यह हर अग्रवंशी तक पहुँच जाएगी !!
अग्रवंश के गौरव हैं हम, 
जिगर शेर का रखते हैं !
सेवा और सहयोग की भावना, दिल में हमेशा रखते हैं !
यूँ ही नहीं सब लोग हमें, धनवान कहते हैं !
आगे रहने वालों को ही, अग्रवाल कहते हैं !!
एक रुपईया एक ईंट का, हमको था संदेश मिला!
अग्रवंश के शिरोमणि का, सदियों पहले उपदेश मिला !!
इसीलिए सब लोग हमें, दिलदार कहते हैं !
आगे रहने वालों को ही, अग्रवाल कहते हैं !!
ग्राम विकास या नगर विकास, रहते हैं सबसे आगे !
बड़े बड़े नेता और मंत्री, झुकते हैं अपने आगे !
घर को हमारे, राजा का दरबार कहते हैं !
आगे रहने वालों को ही, अग्रवाल कहते हैं !!
माँस और मदिरा से रहते, बचपन से ही दूर सदा !
हमको अपनी विरासत में, पूर्वजों से संस्कार मिला !!
अनजाने भी पहली नजर में, गुणवान कहते हैं !
आगे रहने वालों को ही, अग्रवाल कहते हैं !!
रजवाड़ों का खून है, और रजवाड़ों सी शान है !
हमको अपने कुल गोत्र पर, सदियों से अभिमान है !!
बिन कुर्सी के, 
लोग हमें सरकार कहते हैं !
आगे रहने वालों को ही, अग्रवाल कहते हैं !!

अग्रवंश शिरोमणि, छत्रपति महाराजा श्री श्री 1008 श्री अग्रसेन जी महाराज की जय।।
अग्रवंश जननी माता माधवी रानी की जय।।
कुल देवी माता लक्ष्मी की जय।।
जय अग्रसेन जय अग्रोहा जय अग्रवाल

अग्रसेन जयंती पर कविता “अठारह गोत्र”

वैश्यों की कुलदेवी माता महालक्ष्मी जी की कृपा और आशीर्वाद से अग्रकुल प्रणेता महाराजा अग्रसेन के 18 पुत्र हुए। राजकुमार विभु महाराजा अग्रसेन के 18 पुत्रों में सबसे बड़े थे। गर्ग ऋषि ने अग्रसेन को 18 पुत्र के संग 18 यज्ञ करने का संकल्प करवाया था. हमारे पूजनीय महाराज अग्रसेन जी ने अपने राज्य को 18 गणों में विभाजित कर, अपने 18 पुत्रों को सौंप उनके 18 गुरुओं के नाम पर 18 गोत्रों की स्थापना की थी। अग्रवाल गोत्र की महिमा कविता के माध्यम से बताई है।

अग्रसेन जयंती पर कविता 2018 – Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 for Facebook and Whatsapp

 

वैश्य जाती में प्रतिष्ठित अग्रवाल का वर्ग,
गोत्र अठारह में प्रथम नोट कीजिए गर्ग,
नोट कीजिए गर्ग कि कुच्छल, तायल, तिंगल,
मंगल, मधुकूल, ऐरण, गोयन, बिंदल, जिंदल,
कहीं कहीं है नागल, धारण, भंदल, कंसल,
अधिक मिलेंगे मित्तल, गोयल, सिंहल, बंसल,
यह सब थे अग्रसेन के पुत्र दूलारे,
हम सब उनके वंशज है, वे पूज्य हमारे।

Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 “अग्रोहा”

अग्रसेन जयंती पर कविता 2018 – Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 for Facebook and Whatsapp

माथे पे अग्रोहा का चंदन मैं लगाने आया हूँ ।
एक परोपकारी राजा का मैं वंदन करने आया हूँ ॥
किया जिसने खुद को समाज को समर्पित ।
उस महाराज अग्रसेन को मैं नमन करने आया हूँ ॥

अग्रसेन जयंती के पावन अवसर पर आप सभी को ढेर सारी शुभकामनाएं ।

Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi

अग्रसेन जयंती पर कविता 2018 – Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 for Facebook and Whatsapp

जिसके ह्रदय में दूसरे का हित बसता है,

उनको जगत में कुछ भी दुर्लभ नहीं है
जो अपने जैसा दूसरों को भी सुखी देखने की कामना रखते है,

उनके पास रहने
से विद्या प्राप्त होती है

और अज्ञान का अंधकार दूर होता है.

Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 “नाम अग्रवाल क्यों?”

अग्रसेन जयंती पर कविता 2018 – Agarsen Jayanti Par Kavita in Hindi 2018 for Facebook and Whatsapp

“नाम अग्रवाल क्यों?
“न दौलत पर नाज़ करते है!
“न शोहरत पर नाज़ करते है!
“किया माता माधवी-अग्रसेन जी ने अग्रवाल के घर पेद्‍दा,
“इसलिए अपने कर्म पर प्रारम्भ से विस्वास करते है,
“अत: मानव कल्याण के लिए धर्मशाला, हास्पिटल आदि का निर्माण करते है.”
“इसलिए अग्रवाल कहलाते है.”

“Om Madhvi- Agrasen ki jai ho”