ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध 2018 – Essay on Dr. A.P.J Abdul Kalam in Hindi 2018

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध 2018 – Essay on Dr. A.P.J Abdul Kalam in Hindi 2018

October 14, 2018 2 By Rupesh Goyal

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध 2018: Essay on Dr. A.P.J Abdul Kalam in Hindi 2018 डा० अब्दुल कलाम एक महान वैज्ञानिक होने के साथ-साथ गंभीर चिंतक और अच्छे इंसान भी थे। पुरे भारत में उन्हें मिसाइल मैन के नाम से भी जाना जाता है | इनका जन्म रामेश्वर में 15 अक्टूबर 1931 में हुआ था| इसी वजह से आज का दिन 15 October विश्व विद्यार्थी दिवस के रूप में भी मनाया जाता है| बाल-शिक्षा में विशेष रूचि रखने वाले कलाम को वीणा बजाने का भी शौक था। राजनीति से दूर रहकर भी कलाम राजनीति के सर्वोच्च शिखर पर विराजमान रहे।

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध 2018 – Essay on Dr. A.P.J Abdul Kalam in Hindi 2018

‘डा० अब्दुल कलाम’ का जन्म 15 अक्टूबर 1931 ई० को भारत के तमिलनाडु राज्य के रामेश्वरम में हुआ था। इनका पूरा नाम डा० अबुल पकीर जैनुलाबदीन अब्दुल कलाम है। इनके पिता श्री जैनुलाबदीन मध्यमवर्गीय परिवार के थे। कलाम ने अपने पिता से ईमानदारी, आत्मानुशासन की विरासत पाई और माता से ईश्वर-विश्वास तथा करुणा का उपहार लिया।वो जीवन भर अविवाहित रहे। कलाम एक महान इंसान थे जिन्हें भारत रत्न (1997 में), पद्म विभूषण (1990), पद्म भूषण (1981), इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार (1997), रामानुजन अवार्ड (2000), किंग्स चार्ल्स द्वितीय मेडल (2007), इंटरनेशनल्स वोन करमान विंग्स अवार्ड (2009), हूवर मेडल (2009) आदि से सम्मानित किया गया।

Essay on Dr. A.P.J Abdul Kalam in Hindi

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध 2018 – Essay on Dr. A.P.J Abdul Kalam in Hindi 2018

डॉ कलाम ने हमेशा छात्रों को अपने लेखन और भाषणों के माध्यम से जीवन में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए प्रोत्साहित किया। उनके अनुसार, एक अच्छी तरह से सीखा व्यक्ति होने की आधुनिक विचारधारा छात्र की योग्यता को तेज करना है। किसी भी छात्र के लिए, एक औसत छात्र होने के लिए असाधारण व्यक्ति होने के लिए, केवल पाठ्य पुस्तक ज्ञान पर्याप्त नहीं है, उसे सभी शाखाओं, जैसे सिद्धांत पढ़ने, समझने और इसके व्यावहारिक अनुप्रयोग के मार्ग पर चलना चाहिए। एक छात्र को एक अनुशासित जीवन जीना चाहिए और बुराई के मार्ग पर कभी नहीं चलना चाहिए।

प्रेरणादायक व्यक्तित्व, डॉ कलाम सिर्फ लोगों के राष्ट्रपति नहीं थे, बल्कि एक शिक्षक, वैज्ञानिक, प्रोफेसर, लेखक और नीति निर्माता भी थे। डॉ कलाम ने हमेशा लोगों द्वारा शिक्षक के रूप में याद रखने की अपनी इच्छा व्यक्त की। उनका विचार था कि एक छात्र को हमेशा अपने चरित्र को इस तरह से ढूढ़ने का प्रयास करना चाहिए कि यह उनके जीवन में सर्वोच्च प्राथमिकता बन जाए। छात्र एक अच्छे नागरिक, भविष्य के प्रतीक और समाज की मदद करके समाज के सुधार में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं।

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध इन हिंदी “वैज्ञानिक”

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध 2018 – Essay on Dr. A.P.J Abdul Kalam in Hindi 2018
साधारण व्यक्तित्व वाले व्यक्ति का जन्म 1 9 31 में तमिलनाडु के रामेश्वरम में हुआ था। उन्होंने डीआरडीओ और इसरो के साथ एक वैमानिकी इंजीनियर के रूप में काम किया था। डॉ कलाम ने 2002 से 2007 तक भारत के 11 वें राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया। अपने जीवनकाल के दौरान, उन्होंने एक प्रतिष्ठित वैज्ञानिक, विचारक, दार्शनिक और शिक्षक होने के नाते कई प्रतिष्ठित पुरस्कार और सम्मान जीते हैं।

एक आदमी के इस मणि ने कई प्रेरणादायक किताबें लिखी हैं, उनमें से सबसे प्रसिद्ध “आग की पंख”, “भारत 2020” और “इग्निटेड माइंड” हैं। डॉ कलाम आधुनिक भारत के लिए खोजकर्ताओं में से एक रहे हैं जिन्होंने हमेशा युवाओं में जबरदस्त विश्वास दिखाया है। उनके दुर्लभ और प्रेरणादायक उद्धरण इस प्रकार हैं कि यह किसी भी छात्र को प्रेरित करेगा।

डॉ कलाम ने युवाओं को शिक्षण, लेखन और प्रेरक उद्धरण के माध्यम से ज्ञान प्रदान करना पसंद किया। वह हमेशा मानते थे कि शिक्षित युवाओं ने किसी भी विकासशील राष्ट्र के खंभे बनाए हैं। उनके अनुसार शिक्षा व्यक्तिगत विकास का मुख्य चालन बल है। कोई आश्चर्य नहीं कि इतने सारे खिताब होने के बावजूद, डॉ कलाम को अभी भी एक शिक्षक के रूप में संबोधित किया जाना पसंद था!

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम एस्से

अगर आप ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध, ए पी जे अब्दुल कलाम निबंध इन हिंदी, ए पी जे अब्दुल कलाम बेस्ट कोट्स इन हिंदी , ए पी जे अब्दुल कलाम जी पर निबंध हिंदी लैंग्वेज, पूर्व राष्ट्रपति ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध, Ex President par Essay on Dr. A.P.J Abdul Kalam in hindi, Essay on Dr. A.P.J Abdul Kalam in Hindi for class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12th, विश्व मानक दिवस पर निबंध 2018 ढूंढ रहे है तो यह आसानी से प्राप्त कर सकते है |

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध 2018 – Essay on Dr. A.P.J Abdul Kalam in Hindi 2018

पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम हमेशा से युवाओं को ऊर्जावान बनाने के लिए उनका हौसला बढ़ाते रहते थे। युवाओं के उज्जवल भविष्य के लिए उनकी कहीं कुछ बातें ऐसी हैं जिन्हें अपनाकर कोई भी छात्र बुलन्दियों को छू सकता है। उनकी कही बातें हमेशा युवाओं का मार्गदर्शन करती रहेंगी।

कलाम ने कहा था

  • चलो हम अपना आज कुर्बान करते हैं जिससे हमारे बच्चों को बेहतर कल मिले।”
  • भगवान उन्हीं की मदद करता है जो कड़ी मेहनत करते हैं। यह सिद्धान्त स्पष्ट होना आवश्यक है। 
  • सपने सच हों इसके लिए सपने देखना जरूरी है।
  • छात्रों को प्रश्न जरूर पूछना चाहिए यह छात्र का सर्वोत्तम गुण है।
  • अगर एक देश को भ्रष्टाचार मुक्त होना है तो मैं यह महसूस करता हूँ कि हमारे समाज में तीन ऐसे लोग हैं जो ऐसा कर सकते हैं ये हैं-पिता¸माता और शिक्षक।
  • युवाओं के लिए कलाम का विशेष संदेश था-अलग ढंग से सोचने का साहस करो आविष्कार का साहस करो अज्ञात पथ पर चलने का साहस करो असम्भव को खोजने का साहस करो और समस्याओं को जीतो और सफल बनो। ये वे महान गुण हैं जिनकी दिशा में तुम अवश्य काम करो।
  • हमें हार नहीं माननी चाहिए और समस्याओं को अपने ऊपर हावी नहीं होने देना चाहिए।

उपसंहार :

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध 2018 – Essay on Dr. A.P.J Abdul Kalam in Hindi 2018

डॉ0 कलाम के निधन से समाज को जो अपूरणीय क्षति हुई है उसे भर पाना नामुमकिन है परन्तु उनके आदर्शों पर चलकर हम उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि अवश्य दे सकते हैं। ऐसे युगपुरूष¸ महान वैज्ञानिक दार्शनिककर्मयोगी और खुशहाल भारत के स्वप्नदृष्टा जिनके व्यक्तित्व से देश की आने वाली पीढ़ियाँ प्रेरणा लेती रहेंगी। 

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध 2018 – Essay on Dr. A.P.J Abdul Kalam in Hindi 2018