2 अक्टूबर पर गाँधी जी के अनमोल विचार 2018 – Gandhi Jayanti Par Slogans in Hindi 2018

2 अक्टूबर पर गाँधी जी के अनमोल विचार 2018 – Gandhi Jayanti Par Slogans in Hindi 2018

October 1, 2018 1 By Rupesh Goyal

गाँधी जी के अनमोल विचार 2018: में आप लोगो तो अपनी इस पोस्ट के माध्यम से बताना चाहता हूँ- 2 अक्टूबर पर गाँधी जी के अनमोल विचार 2018, Gandhi Jayanti Par Slogans in Hindi 2018, महात्मा गाँधी, एक ऐसा नाम जिसे भारत ही नहीं पुरे दुनिया में किसी परिचय की ज़रूरत नहीं। सत्य और अहिंसा का पुजारी जिसने बिना शस्त्र उठाये अंग्रेजों को झुका दिया और भारत को आजाद करा दिया। आइये दुनिया के महानतम लोगों में गिने जाने वाले इस महापुरुष के अनमोल विचार जानते हैं और उनसे कुछ सीख लेते हैं।

2 अक्टूबर पर गाँधी जी के अनमोल विचार 2018

२ अक्टूबर पर गाँधी जी के अनमोल विचार 2018 - Gandhi Jayanti Par Slogans in Hindi 2018

विश्व के सारे महान धर्म मानवजाति की समानता, भाईचारे और सहिष्णुता का संदेश देते हैं। Click To Tweet जब भी मैं सूर्यास्त की अद्भुत लालिमा और चंद्रमा के सौंदर्य को निहारता हूँ तो मेरा हृदय सृजनकर्ता के प्रति श्रद्धा से भर उठता है। Click To Tweet एक सच्चे कलाकार के लिए सिर्फ वही चेहरा सुंदर होता है जो बाहरी दिखावे से परे, आत्मा की सुंदरता से चमकता है। Click To Tweet आँख के बदले में आँख पूरे विश्व को अँधा बना देगी. Click To Tweet

गाँधी जी के अनमोल विचार

२ अक्टूबर पर गाँधी जी के अनमोल विचार 2018 - Gandhi Jayanti Par Slogans in Hindi 2018

व्यक्ति अपने विचारों से निर्मित प्राणी है, वह जो सोचता है वही बन जाता है. Click To Tweet अपने प्रयोजन में दृढ विश्वास रखने वाला एक सूक्ष्म शरीर इतिहास के रुख को बदल सकता है. Click To Tweet हमेशा अपने विचारों, शब्दों और कर्म के पूर्ण सामंजस्य का लक्ष्य रखें. हमेशा अपने विचारों को शुद्ध करने का लक्ष्य रखें और सब कुछ ठीक हो जायेगा. Click To Tweet थोडा सा अभ्यास बहुत सारे उपदेशों से बेहतर है. Click To Tweet

गाँधी जी के अनमोल विचार इन हिंदी

२ अक्टूबर पर गाँधी जी के अनमोल विचार 2018 - Gandhi Jayanti Par Slogans in Hindi 2018

खुद वो बदलाव बनिए जो आप दुनिया में देखना चाहते हैं. Click To Tweetविश्वास को हमेशा तर्क से तौलना चाहिए. जब विश्वास अँधा हो जाता है तो मर जाता है. Click To Tweet

पहले वो आप पर ध्यान नहीं देंगे, फिर वो आप पर हँसेंगे, फिर वो आप से लड़ेंगे, और तब आप जीत जायेंगे. Click To Tweet

२ अक्टूबर पर गाँधी जी के अनमोल विचार 2018 - Gandhi Jayanti Par Slogans in Hindi 2018

ख़ुशी तब मिलेगी जब आप जो सोचते हैं, जो कहते हैं और जो करते हैं, सामंजस्य में हों. Click To Tweet कोई त्रुटी तर्क-वितर्क करने से सत्य नहीं बन सकती और ना ही कोई सत्य इसलिए त्रुटी नहीं बन सकता है क्योंकि कोई उसे देख नहीं रहा. Click To Tweet पूंजी अपने-आप में बुरी नहीं है, उसके गलत उपयोग में ही बुराई है. किसी ना किसी रूप में पूंजी की आवश्यकता हमेशा रहेगी. Click To Tweet

Gandhi Jayanti Par Slogans in Hindi 2018

अगर आप Gandhi Jayanti Par Slogans in Hindi 2018, 2 अक्टूबर पर गाँधी जी के अनमोल विचार 2018, महात्मा गाँधी जयंती पर भाषण 2018, Mahatma Gandhi Jayanti Speech in Hindi 2018, महात्मा गाँधी जयंती पर भाषण, Mahatma Gandhi Jayanti Speech in Hindi, World Heart Day Speech in Hindi 2018,महात्मा गाँधी जयंती पर स्पीच इन हिंदी, World Heart Day Speech in Hindi, World Heart Day Par Essay in Hindi 2018शिक्षक दिवस बधाई सन्देश – Teachers Day Wishes in Hindiटीचर डे शायरी हिंदी 2018 – Best Happy Teachers Day Quotes and Shayari in Hindi, महात्मा गाँधी जयंती पर निबंध कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 ,10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए ढूंढ रहे है तो यह से प्राप्त कर सकते है|
२ अक्टूबर पर गाँधी जी के अनमोल विचार 2018 - Gandhi Jayanti Par Slogans in Hindi 2018

स्वच्छता, पवित्रता और आत्म-सम्मान से जीने के लिए धन की आवश्यकता नहीं होती। Click To Tweet

२ अक्टूबर पर गाँधी जी के अनमोल विचार 2018 - Gandhi Jayanti Par Slogans in Hindi 2018

अपनी गलती को स्वीकारना झाड़ू लगाने के समान है जो सतह को चमकदार और साफ़ कर देती है Click To Tweet निरंतर विकास जीवन का नियम है, और जो व्यक्ति खुद को सही दिखाने के लिए हमेशा अपनी रूढ़िवादिता को बरकरार रखने की कोशिश करता है वो खुद को गलत स्थिति में पंहुचा देता है. Click To Tweet जो भी चाहे अपनी अंतरात्मा की आवाज़ सुन सकता है. वह सबके भीतर है. Click To Tweet

Gandhi Jayanti Par Slogans in Hindi

२ अक्टूबर पर गाँधी जी के अनमोल विचार 2018 - Gandhi Jayanti Par Slogans in Hindi 2018

गुलाब को उपदेश देने की आवश्यकता नहीं होती। वह तो केवल अपनी खुशबू बिखेरता है। उसकी खुशबू ही उसका संदेश है। Click To Tweet मैं यह अनुभव करता हूं कि गीता हमें यह सिखाती है कि हम जिसका पालन अपने दैनिक जीवन में नहीं करते हैं, उसे धर्म नहीं कहा जा सकता है। Click To Tweet हृदय में क्रोध, लालसा व इसी तरह की -----भावनाओं को रखना, सच्ची अस्पृश्यता है। Click To Tweet आत्मा की शक्ति संपूर्ण विश्व के हथियारों को परास्त करने की क्षमता रखती है। Click To Tweet गति जीवन का अंत नहीं हैं। सही अथो± में मनुष्य अपने कर्तव्यों का निर्वाह करते हुए जीवित रहता है। Click To Tweet प्रतिज्ञा के बिना जीवन उसी तरह है जैसे लंगर के बिना नाव या रेत पर बना महल। Click To Tweet