राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी – National Farmers Day Shayari in Hindi

राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी – National Farmers Day Shayari in Hindi

December 21, 2018 0 By Rupesh Goyal

राष्ट्रीय किसान दिवस कब ओर क्यों मनाया जाता है :-इस दिन का आयोजन देश के पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के सम्मान में किया जाता हैं. वो देश के पाँचवे प्रधानमंत्री थे. हालांकि उन्होंने केवल 28 जुलाई 1979 से  लेकर 14 जनवरी 1980 तक ये पदभार सम्भाला था, लेकिन इस दौरान ही उन्होंने किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए बहुत सी नीतियाँ बनाई थी. चौधरी चरण सिंह की बहुत सी नीतियाँ ना केवल किसानों के हितों की रक्षा करती थी बल्कि उन्हें एकजुट करके जमीदारों से लड़ने को प्रेरित भी करती थी. आइए इस शुुभ अवसर पर पड़ते ओर शेयर करते है ये पोस्ट राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी, National Farmers Day Shayari in Hindi।

National Farmers Day

राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी - National Farmers Day Shayari in Hindi

राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी – National Farmers Day Shayari in Hindi

किसानो से अब कहाँ वो मुलाकात करते हैं,
बस ऱोज नये ख्वाबो की बात करते हैं,
पैर हों जिनके मिट्टी में, दोनों हाथ कुदाल पर रहते हैं,
सर्दी , गर्मी या फिर बारिश, सब कुछ ही वे सहते हैं,
आसमान पर नज़र हमेशा, वे आंधी तूफ़ां सब सहते हैं,
खेतों में हरियाली आये, दिन और रात लगे रहते हैं,
मेहनत कर वे अन्न उगाते, पेट सभी का भरते हैं,
वो है मसीहा मेहनत का, उसको किसान हम कहते हैं।

राष्ट्रीय किसान दिवस

राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी - National Farmers Day Shayari in Hindi

राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी – National Farmers Day Shayari in Hindi

क्यों ना सजा दी पेड़ काटने वाले शैतान को, खुदा तूने सजा दे दी सीधे-साधे किसान को। Click To Tweet

कहाँ छुपा के रख दूँ मैं अपने हिस्से की शराफ़त, जिधर भी देखता हूँ उधर बेईमान खड़े हैं, क्या खूब तरक्की कर रहा हैं अब देश देखिये, खेतो में बिल्डर और सड़को पर किसान खड़े हैं। Click To Tweet

राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी - National Farmers Day Shayari in Hindi

मत मारो गोलियो से मुझे मैं पहले से एक दुखी इंसान हूँ, मेरी मौत कि वजह यही हैं कि मैं पेशे से एक किसान हूँ. Click To Tweet
जिसकी आँखो के आगे,किसान पेड़ पे झूल गया, देख आईना तू भी बन्दे,कल जो किया वो भूल गया. Click To Tweet

किसान की समस्या खत्म नही होती, नेताओ के पास पैकेज अस्सी हैं, अंत में समस्या खत्म करने के लिए, किसान चुनता रस्सी हैं. Click To Tweet

National Farmers Day Shayari in Hindi – राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी

राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी - National Farmers Day Shayari in Hindi

अगर आप राष्ट्रीय किसान दिवस, भारतीय किसान दिवस पर हिन्दी कविता, राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी, National Farmers Day Shayari in Hindi, भारतीय किसान दिवस पर हिन्दी कविता २०१८, किसान दिवस पर हिन्दी कविता, किसान पर कविता, किसान पर कविता इन हिंदी, किसान पर कविता हिंदी में, किसान दिवस पर कविता, किसान दिवस पर कविता हिंदी में, किसान दिवस पर कविता इन हिंदी, किसान की दुर्दशा पर कविता, Poem on National Farmer Day in Hindi, Poem on National Farmer Day in Hindi 2018, Poem on Farmer in Hindi,  kisaan Diwas par Kavita 2018, kisaan Diwas par Kavita hindi me, christmas day par speech आदि ढूंढ रहे है | तो यह आसानी से प्राप्त कर सकते है व् अपने दोस्तों और प्रियगनो को Facebook, Instagram और Whatsapp पर शेयर भी कर सकते है |

National Farmers Day Shayari in Hindi

राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी - National Farmers Day Shayari in Hindi

हमने भी कितने पेड़ तोड़ दिए, संसद की कुर्सियों में जोड़ दिए, कुआँ बुझा दिए, नदियाँ सुखा दिए, विकास की ताकत से कुदरत को झुका दिए। Click To Tweet

जमीन जल चुकी है आसमान बाकी है, सूखे कुएँ तुम्हारा इम्तहान बाकी है, वो जो खेतों की मेढ़ों पर उदास बैठे हैं, उनकी आखों में अब तक ईमान बाकी है, बादलों बरस जाना समय पर इस बार, किसी का मकान गिरवी तो किसी का लगान बाकी है। Click To Tweet

ये सिलसिला क्या यूँ ही चलता रहेगा, सियासत अपनी चालों से कब तक कृषक को छलता रहेगा। Click To Tweet

राष्ट्रीय किसान दिवस पर दर्द भरी शायरी

राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी - National Farmers Day Shayari in Hindi

ऐ ख़ुदा बस एक ख़्वाब सच्चा दे दे, अबकी बरस मानसून अच्छा दे दे। Click To Tweet

कहाँ छुपा के रख दूँ मैं अपने हिस्से की शराफ़त, जिधर भी देखता हूँ उधर बेईमान खड़े हैं, क्या खूब तरक्की कर रहा हैं अब देश देखिये, खेतो में बिल्डर और सड़को पर किसान खड़े हैं. Click To Tweet

छत टपकती हैं, उसके कच्चे घर की, फिर भी वो कृषक करता हैं दुआ बारिश की। Click To Tweet

किसान की आह जो दिल से निकाली जाएगी, क्या समझते हो कि ख़ाली जाएगी Click To Tweet

National Farmers Day Shayari

राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी - National Farmers Day Shayari in Hindi

क्या दिखा नही वो खून तुम्हें, जहाँ धरती पुत्र का अंत हुआ, सच को ये सच नही मान रहा, लो आँखों से अँधा भक्त हुआ Click To Tweet

परिश्रम की मिशाल हैं, जिस पर कर्जो के निशान हैं, घर चलाने में खुद को मिटा दिया, और कोई नही वह किसान हैं। Click To Tweet

राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी

राष्ट्रीय किसान दिवस पर शायरी - National Farmers Day Shayari in Hindi

नही हुआ हैं अभी सवेरा, पूरब की लाली पहचान, चिडियों के उठने से पहले, खाट छोड़ उठ गया किसान। Click To Tweet

मैं किसान हूँ मुझे भरोसा हैं अपने जूनून पर निगाहे लगी हुई है आकाश के मानसून पर. Click To Tweet